Browsing Category

साहित्य

लोकतंत्र की मज़बूती है स्वतंत्र पत्रकारिता

लोकतंत्र की मज़बूती है स्वतंत्र पत्रकारिता (शिब्ली रामपुरी) हाल ही में मीडिया पर कानूनी शिकंजा कसने के कई ऐसे मामले सामने आए हैं जिससे साफ पता चलता है कि सत्ता में बैठे या फिर कुछ दबंग किस्म के लोग मीडिया की आवाज को किसी ना किसी तरह से…
Read More...

या-रब न वो समझे हैं न समझेंगे मरी बात

या-रब न वो समझे हैं न समझेंगे मरी बात डाक्टर सलीम खान यौम जम्हूरिया की किसान परेड के खिलाफ बड़ी उम्मीदों से अमित शाह ने सुप्रीम कोर्ट के दरवाजे पर दस्तक दी लेकिन उसे ये कह कर धुतकार दिया गया कि नजम व नस्क का मामला इंतिजामिया का है अदलिया…
Read More...

आह।हसीब सिद्दीकी साहब। आप फिर याद आ गए।

आह।हसीब सिद्दीकी साहब। आप फिर याद आ गए। (कमल देवबन्दी------लेखक,अध्यापक,विचारक अल्लाह रब्बुल इज़्ज़त की इस अज़ीम कायनात में इंसानी जिंदगियों की गिनती करना नामुमकिन सा है----हां, हज़ारों साल पुरानी इस दुनिया मे यह ज़रूर आसान है के आप इस…
Read More...

किस ब्रहमण ने कहा था कि ये साल अच्छा है

किस ब्रहमण ने कहा था कि ये साल अच्छा है डाक्टर सलीम खान 2020 में मर्कजी हुकूमत की कारकर्दगी पर एक निगाह डाली जाये तो ये हकीकत खुल कर सामने आ जाती है कि ये सरकार अगर मुल्क दुश्मन ना सही तो मुल्क दोस्त भी नहीं है। इस को अवाम के मसाइल हल…
Read More...

2020: अपनी कुटिया में रोज मातम है,उनके कोठे पे रोज शहनाई

2020: अपनी कुटिया में रोज मातम है,उनके कोठे पे रोज शहनाई डाक्टर सलीम खान साल 2020 में ये दिलचस्प सूरते हाल सामने आई कि कोरोना ने अवाम की एक बड़ी अक्सरीयत को गुर्बत व अफ्लास के तारीक वादी में ढकेल दिया । लाखों कारोबार ठप और करोडों लोग…
Read More...

रेशमी रुमाल तहरीक के संचालक हज़रत शैख़ उल हिन्द मौलाना महमूद हसन देवबन्दी की रुख़्सती का सोवा साल(100)

रेशमी रुमाल तहरीक के संचालक हज़रत शैख़ उल हिन्द मौलाना महमूद हसन देवबन्दी की रुख़्सती का सोवा साल(100) कमल देवबन्दी(लेखक,अध्यापक घड़ी की धड़कती सुईं,कलेंडर के बदलते सफहात गुज़रते वक़्त का अहसास कराते हैं------इस क़दीम और तवील दुनिया मे करोड़ों…
Read More...

विश्व उर्दू दिवस—* *बदहाली और सिमटते दायरे के लिए ज़िम्मेदार कौन*

*विश्व उर्दू दिवस---* *बदहाली और सिमटते दायरे के लिए ज़िम्मेदार कौन* *(शिब्ली रामपुरी)* मशहूर शायर डॉ इकबाल के जन्म दिवस के मौके पर हर साल 9 नवंबर को विश्व उर्दू दिवस मनाया जाता है.इस दौरान कई कार्यक्रम आयोजित किए जाते हैं और कई संगठनों…
Read More...

ब्रह्मण समाज की हालत विकास दूबे से विजय मिश्रा तक

ब्रह्मण समाज की हालत विकास दूबे से विजय मिश्रा तक डाक्टर सलीम खान उतर प्रदेश में योगी सरकार ब्रह्मणों को नाराज करने पर तुली हुई है। इस की ताजा-तरीन मिसाल उस की अपनी हलीफ निशाद पार्टी के रुकन असैंबली विजय कुमार मिश्रा की मध्य प्रदेश से…
Read More...

क्या आप जानते हैं राहत इंदौरी को लोगों ने इतना क्यों याद किया?

क्या आप जानते हैं राहत इंदौरी को लोगों ने इतना क्यों याद किया? (शिब्ली रामपुरी) मशहूर शायर डॉक्टर राहत इंदौरी कोई नेता नहीं थे कोई फिल्म अभिनेता भी नहीं थे. राजनीति से उनका दूर-दूर तक कोई वास्ता नहीं था. कुछ फिल्मों में उन्होंने गीत…
Read More...

*अलविदा राहत साहब, जब सहारनपुर के गंगोह में मुशायरे में आए थे ठाकुर अमर सिंह और राहत इंदौरी

*जब सहारनपुर के गंगोह में मुशायरे में आए थे ठाकुर अमर सिंह और राहत इंदौरी*  *(शिब्ली रामपुरी)*  बात उन दिनों की है जब काजी रशीद मसूद सहारनपुर से समाजवादी पार्टी के सांसद थे और क़स्बा गंगोह में ऑल इंडिया मुशायरा हुआ था. मुशायरे का संचालन…
Read More...