जब मदर्स डे के बारे में सुनकर सोनोरा की ज़िद पर मनाया जाने लगा फादर्स डे*

*जब मदर्स डे के बारे में सुनकर सोनोरा की ज़िद पर मनाया जाने लगा फादर्स डे*

*काफी रोचक है इसकी शुरुआत की कहानी*

(शिब्ली रामपुरी)
हमारे जीवन में पिता की जो अहमियत है उसे किसी भी तरह से नजरअंदाज नहीं किया जा सकता है. पिता को हम हमेशा जब तक वह हमारे साथ रहते हैं तब भी सुख की अनुभूति करते हैं और जिन लोगों के सर से पिता का साया उठ जाता है वह भी तमाम उम्र अपने पिता को याद करते हैं. पिता के प्रति सम्मान के लिए यूं तो कोई एक दिन क्या बल्कि पूरा साल ही कम है. लेकिन काफी वर्षों से पिता के प्रति अपने सम्मान को दर्शाने के लिए फादर्स डे मनाया जाता है. फादर्स डे की शुरुआत कब हुई इस को लेकर कई किस्से हैं लेकिन उनमें एक किस्सा काफी मशहूर है. वह है अमेरिका की सोनेरा से जुड़ा क़िस्सा.

कुछ इतिहासकारों के मुताबिक मदर्स डे को देखकर एक बच्ची जिसका नाम सोनोरा डाड था उसकी जिद के कारण फादर्स डे की शुरुआत हुई.
सोनोरा की मां का निधन बचपन में ही हो गया था उसकी मां उसे और उसके पांच भाइयों को छोड़कर चली गई थी. पांचों भाई उससे छोटे थे इसके बाद पूरे घर और बच्चों की जिम्मेदारी सोनोरा के पिता ने अंजाम दी. 1909 में सोनोरा ने मां के सम्मान में मनाए जाने वाले मदर्स डे के बारे में सुना तो उसके दिमाग में विचार आया कि जब मां के सम्मान में मदर्स डे मनाया जा सकता है तो फिर पिता के सम्मान में फादर्स डे क्यों नहीं होना चाहिए. उस वक्त उस बच्ची ने इसके लिए कैंपेन शुरू किया और बाकायदा एक याचिका भी दायर की गई जिसमें सोनोरा ने लिखा था कि उसके पिता का जन्मदिन 5 जून को आता है और अपने बच्चों के लिए उनके समर्पण के सम्मान में वह चाहती हैं कि जून में ही फादर्स डे मनाया जाना चाहिए. जिस वक्त सोनोरा ने इस मुहिम की शुरुआत की तब उसको एक छोटी सी बच्ची के दिमाग का फितूर समझ कर उसका किसी ने साथ नहीं दिया लेकिन उसने हिम्मत नहीं हारी और उसने फादर्स डे मनाने की ठान ली और इसके लिए कैंपेन शुरू किया और उसने अमेरिकी कांग्रेस के नेताओं से बात की और वॉशिंगटन कैंपेन किया. उसके प्रयासों का ही नतीजा रहा कि जून के महीने में फादर्स डे मनाने को अमेरिका में कानूनी तौर पर मान्यता मिली और बाकायदा इस दिन अवकाश भी घोषित किया गया. तो कैसे एक बच्ची की ज़िद पर फादर्स डे की शुरुआत हुई और आज फादर्स डे मनाया जाता है.जिसमें लोग अपने पिता के प्रति अपने सम्मान को प्रदर्शित करते हैं.

Comments are closed.