14 अप्रैल को खत्म हो जाएगा लॉकडाउन या रहेगा

कोरोना वॉकडाउन के नौवें दिन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देशवासियों का अब तक के सहयोग के लिए धन्यवाद दिया है और रविवार को 9 बजे 9 मिनट तक दीया-मोमबत्ती जलाने का आह्वान किया। लेकिन क्या जब इस 21 दिन के लॉकडाउन की अवधि खत्म होगी तो क्या देश फिर से घरों से बाहर होगा? क्या सबकुछ पहले जैसा सामान्य हो जाएगा? या फिर, इस लॉकडाउन को जारी रखा जाएगा? प्रधानमंत्री ने देश की इस जिज्ञासा पर कुछ नहीं कहा।

लेकिन, जो संकेत मिल रहे हैं उससे पता चलता है कि सरकार 21 दिन की अवधि के बाद इस लॉकडाउन को खत्म करने की तैयारियों में जुट गई है। इस लॉकडाउन से देश की आर्थिक स्थिति पर भयंकर प्रभाव पड़ा है, ऐसे में इससे बाहर निकलने की रणनीति पर विचार विमर्श शुरु हो गया है।

 

इसके संकेत गुरुवार को उस समय मिले जब प्रधानमंत्री ने राज्यों के मुख्यमंत्रियों के साथ वीडियो कांफ्रेंस की। उन्होंने कहा कि सभी राज्यों को इस लॉकडाउन के बाद लोगों की भीड़ को काबू में रखने की तैयारियों में जुट जाना चाहिए और इसे सुनिश्चित करना चाहिए कि इसका विपरीत असर न पड़े।

प्रधानमंत्री ने राज्यों से इस बारे में गहन चर्चा करने और रणनीति के बारे में सुझाव भेजने को कहा। सूत्रों के मुताबिक फिलहाल सीमित लॉकडाउन जारी रखने की रणनीति पर एक विकल्प के रूप में विचार हो रहा है, और इसे समर्थन भी मिल रहा है। लेकिन कितना सीमित होगा, यह सब इस बार पर निर्भर करेगा कि कोरोना वायरस के फैलाव की गति कैसी है।

एक विचार यह सामने आया है कि हो सकता है कि 14 अप्रैल के बाद ऐसी स्थिति न हो कि देश में कोई भी नया कोरोना पॉजिटिव मामला सामने न आए, ऐसी स्थिति में कुछ खास इलाकों में लॉकडाउन जारी रखा जाएगा जाकि वायरस के प्रसार को नियंत्रण में रखा जा सके।

इंडियन एक्स्प्रेस ने एक उच्च पदस्थ सरकारी सूत्र के हवाले से लिखा है कि, “अगर देश भर में ऐसे सभी इलाकों या पॉकेट्स की पहचान कर सकें,जो कि सैकड़ों हो सकते हैं, तो हो सकता है कि बाकी देश में सामान्य स्थिति बहाल कर दी जाए, और सिर्फ इन इलाकों पर ही पाबंदी रखी जाए।” इस सूत्र का कहना था कि ऐसे में सारे संसाधनों को इन इलाकों में इस्तेमाल किया जाएगा और एक गहन और कठोर सर्विलांस के जरिए आगे की कार्रवाई तय की जाएगी।

Comments are closed.