कच्चे तेल की क़ीमतों में भारी गिरावट, 2003 के बाद सबसे निचले स्तर पर काला सोना!
March 19, 2020
तबलीगी जमात के मुखिया मोलाना साद का बेटा सामने आया है और उसने कहा है कि दिल्ली पुलिस की क्राइम ब्रांच ने जो दस्तावेजी सबूत मांगे हैं वह सब मरकज में हैं और साथियों के पास हैं। चूंकि सभी साथी क्वारंटाइन हैं और मरकज सील है ऐसे में सबूत देना मुश्किल है।
April 4, 2020

कोरोना का संकट बढ़ा तो अमरीका में हथियारों की दुकानों पर लग गईं लंबी लाइनें, लड़ाई और मारकाट बढ़ने की आशंका!

कोरोना वायरस से उपजे संकट के चलते जहां दुनिया के बहुत से देशों में दस्ताने, मास्क और सेनीटाइज़र्ज़ या खाने पीने की चीज़ों की डिमांड बढ़ी है वहीं अमरीका में बड़ी अजीब चीज़ यह देखने में आ रही है कि हथियारों की दुकानों पर लोगों की लंबी लाइनें लग गई हैं क्योंकि कोरोना संकट के चलते सामूहिक टकराव की घटनाएं बढ़ने की आशंका पैदा हो गई है।

न्यू जर्सी में हथियारों के एक व्यापारिक केन्द्र के अधिकारी वाइन फ़ीड ने बताया कि दो दिन से हमारे केन्द्र के बाहर हथियार ख़रीदने वालों की लंबी लाइनें हैं जबकि यह पहले कभी नहीं हुआ।

तुर्क समाचार एजेंसी अनादुलू ने रिपोर्ट दी कि अमरीकियों में गहरी चिंता पायी जाती है कि आने वाले दिनों में कुछ सेवाएं बंद हो जाएंगी और उस स्थिति में उनके पास अपने घरों और परिवारों की रक्षा के लिए कोई रास्ता नहीं रहेगा इसलिए वह हथियार ख़रीद रहे हैं कि अपनी हिफ़ाज़त आप कर सकें।

वाइन फ़ीड का कहना है कि हमारे केन्द्र ने हथियारों की बिक्री पर कुछ सीमितताएं निर्धारित कर दी हैं ताकि हमारा भंडार कहीं ख़त्म न हो जाए।

अमरीका में अब तक कोरोना वायरस से 6 हज़ार से अधिक लोग संक्रमित हो चुके हैं जबकि 100 से अधिक लोगों की मौत हो चुकी है।

ब्रिटिश अख़बार गार्डियन ने लिखा है कि केलीफ़ोर्निया में हथियारों की दुकानों के बाहर लंबी लाइनें हैं। लास एंजलिस टाइम्ज़ ने भी एक बड़े हथियार केन्द्र के अधिकारी के हवाले से लिखा कि इस समय लोग डरे हुए हैं और उन्हें वाक़ई हथियारों की सख्त ज़रूरत है।

उत्तरी कैरोलीना में हथियारों के व्यापारिक केंन्द्र हयात गन के मालिक लारी हयात ने कहा कि इस समय जिस पैमाने पर हथियारों की बिक्री हो रही है वह पहले कभी नहीं देखी गई। उन्होंने कहा कि इस तरह की स्थिति एक बार वर्ष 2012 में उस समय देखने में आई थी जब कनेक्टीकट शहर के स्कूल में फ़ायरिंग की घटना हुई थी।

Comments are closed.