मैं जाकर दुश्मनों में बस गया हूं, यहां हमदर्द हैं दो-चार मेरे  डॉ. सलीम खान
October 7, 2019
बालाकोट से बडगाम तक डॉ. सलीम खान
October 17, 2019

गुरुजी अपने शिष्य से भिड़ गए डॉ. सलीम खान

गुरुजी अपने शिष्य से भिड़ गए

डॉ. सलीम खान

लल्लन देशमुख ने कल्लन कुलकर्णी से कहा, आप देखिए, जिस मोदी की आलोचना ट्रम्प से भी नहीं की गई, उससे हमारे गुरुजी ने पंगा ले लिया ।
कल्लन कुलकर्णी ने विस्मय से पूछा। प्रधान सेवक से पंगा लेनेवाला यह कौन है? क्या वह अमित शाह से नहीं डरता?
अरे मेरे भाई, गुरुजी किसी से भी नहीं डरते, लेकिन अच्छे-अच्छे उनसे डरते हैं।
कल्लन बोला मुझे यह समझ में नहीं आया कि ऐसा क्या है जो सब उससे डरते हंै?
लल्लन ने जवाब दिया कि वह अपने मोदी जी के ऐसे पावरफुल गुरु हैं कि जब उन्होंने भीमा कोरे गाँव में दंगा किया, तो पूरा प्रशासन उन्हें बचाने गया।
ओह मेरे भाई, वे कार्रवाइयां तो नागरिक नक्सलियों को नियंत्रित करने के लिए आवश्यक थी।
नहीं, सारा तमाशा हमारे गुरुजी को बचाने के लिए किया गया था, नहीं तो उन्हें गिरफ्तार किया जाता और प्रलय आ जाता।
खैर, बताइए कि गुरुजी ने मोदी के बारे में क्या कह दिया।
यही कि संयुक्त राष्ट्र में मोदी का यह कथन कि हमने दुनिया को युद्ध नहीं बुद्ध दिया है, गलत है, वर्तमान संदर्भ में, गौतम बुद्ध का संदेश पूरी तरह से बेकार है।
हद हो गई। क्या आपके गुरु को पता है कि संयुक्त राज्य अमेरिका में कूटनीति कैसे की जाती है? हाथियों के दांत दिखाने के और खाने के और होते हंै।
गुरुजी के अनुसार, संयुक्त राज्य अमेरिका ने 39 विफलताओं के बाद एकादशी के शुभ अवसर पर रॉकेट भेजा, और चंद्रमा तक पहुंचने में सक्षम रहा।
ठीक है फिर तो इसरो वालों को चंद्र यान भेजने से पहले गुरुजी से मुहूर्त निकलवाना चाहिए था।
हां, यही तो मैं कहता हूं कि हमारे जिस प्राचीन ज्ञान का लोहा पूरी दुनिया मानती है, खुद हम उसका महत्व नही पहचानते ।
अच्छा यह बताइए कि आपके गुरु ने ज्ञान की ये बातें कहाँ से सीखीं?
यह ऐसा है कि वह पहले आरएसएस में थे, लेकिन संघ का रवैया देखकर, उन्होंने शिव प्रतिष्ठान के नाम से अपना गर्म दल बना लिया।
यह ठीक है, लेकिन आपकी यह धारकरी समुदाय करता क्या है?
दंगा और क्या? 2008 में, हमने फिल्म जोधा अकबर के बहाने दंगा किया। 2009 में पुणे में भिड़ गये। 2015 में, जितेंद्र को सबक सिखाया।
कल्लन घबराया और बोला, अरे भाई, अब बस भी तो करो। मुझे डर लग रहा है, लेकिन मुझे बताओ कि लोग तुम्हारे गुरुजी से इतना डरते क्यों हैं।
क्यों नहीं डरें? वह 80 साल की उम्र में भी हर दिन 50 दंड बैठक और सूर्य नमस्कार करते हैं।
कल्लन ने एक हंसी के साथ कहा, यार, यह अविश्वसनीय है, लेकिन अगर सही है, तो भी पुलिस दल बड़े- बड़े पहलवानों को गिरफ्तार कर सकता है।
कोई भी उनके खिलाफ गवाही देने की हिम्मत नहीं करता है, इसलिए वे छूट जाते हैं और उन्हें मुख्यमंत्री भी सदन के अंदर क्लीन चिट देने के लिए मजबूर है।
क्या आपके गुरु राज्य में इतने लोकप्रिय हैं कि भाजपा उनकी आवाज पर चुनाव हार सकती है?
हां, उनकी लोकप्रियता का मुख्य कारण यह है कि वे नंगे पांव पैदल, साइकिल पर या बस पर यात्रा करते हैं। वे विलासिता के दुश्मन हैं।
आजकल, ऐसी चीजें कोई मायने नहीं रखती हैं,
लल्लन ने कहा, लेकिन उनकी लोकप्रियता का एक कारण यह है कि बांझ महिलाएं भी नासिक में गुरुजी के बगीचे में आम खाकर नर संतान की मां बन जाती हैं।
जब कल्लन ने यह सुना, तो वह हंसने लगा, उसने मुस्कुराते हुए कहा कि आसाराम और चिनम्या नंद के बारे में भी ऐसी ही बातें कही जाती थीं। क्या आप जानते हैं कि वे आजकल कहां हैं?
यह सुनते ही लल्लन का माथा ठनक गया…

Comments are closed.