कबाड़ की दुकान पर मिलीं गीतकार साहिर लुधियानवी की हस्तलिखित नज्में, डायरियां , क्यों कोई मुझको याद करे
September 10, 2019
मैं जाकर दुश्मनों में बस गया हूं, यहां हमदर्द हैं दो-चार मेरे  डॉ. सलीम खान
October 7, 2019

देश में आई कट्टरपंथी विचारधाराओं को पल्पने नहीं देना है — शाह अल्वी फाउंडेशन , राष्ट्रीय अध्यक्ष श्री नासिर शाह अल्वी

27/09/2019 को एम.एन. शाह अल्वी फाउंडेशन के राष्ट्रीय अध्यक्ष श्री नासिर शाह अल्वी जी ने बरेली आगमन पर कार्यक्रम रखा गया इस कार्यक्रम का मुख्य उद्देश्य देश में आई कट्टरपंथी विचारधाराओं को पल्पने नहीं देना है क्योंकि देश के लिए आजाद कराने में हर धर्म व सब जातियों ने मिलकर देश को आजाद कराया और लाखों कुर्बानियां देकर हमारे क्रांतिकारियों ने हर धर्म बाहर जाति के लोगों को लेकर साथ चले तब कहीं जाकर हम को आजादी मिली और आज उन कुर्बानियों को भूलकर धर्म धर्म व राजनीतिक पार्टी पार्टी के नाम पर आपस में बैर रख रहे हैं और कट्टरपंथी विचारधारा को बढ़ावा दिया जा रहा है इसको हमें रोकना है क्योंकि पड़ोसी मुल्क पाकिस्तान चाइना इजराइल जैसे देश हमारे नौजवानों को व हमारे देश में व पड़ोसी मुल्क हमारी देश की तरक्की व गंगा जमनी तहजीब को सेद लगाने का कार्य कर रहा है मैं देश के प्रधानमंत्री व देश के युवाओं एवं धार्मिक धर्मगुरु बुद्धिजीवियों से अपील करना चाहूंगा की हमारे मुल्क में विदेशी ताकते से हम सबको मिलकर रोकना होगा साथ ही राष्ट्रीय अध्यक्ष ने कहा यह संस्था पूर्ण रूप से गैर राजनीतिक है और देश हित के लिए कार्य कर रही है अब यह सभी धार्मिक धर्मगुरु व बुद्धिजीवियों को साथ में लेकर कार्य करेगी इसी उद्देश्य से बरेली जनपद के ढकनी शरीफ के गद्दी नशीन महमूद अली शाह मलंग बाबा को संस्था का राष्ट्रीय सलाहकार नियुक्त किया गया क्योंकि इनके लाखों मुरीद हैं जिनमें मुस्लिम व गैर मुस्लिम शामिल है और देश को आजाद कराने में काफी बड़ी भूमिका निभाई थी मलंगो ने और देश की कट्टरपंथी विचारधारा को रोकने के लिए देश में अभियान चलाए जाएंगे और बरेली में एक प्रदेश कॉन्फ्रेंस होने वाली है जिसमें सभी धर्मगुरु व बुद्धिजीवियों लोक हजारों की संख्या में भाग लेंगे
इस प्रोग्राम में भाग लेने वाले लोग जैसे- प्रदेश उपाध्यक्ष जाफर शाह अल्वी, नाजिम शाह, जिला अध्यक्ष डा. हसरत अल्वी, नगर अध्यक्ष सप्पन शाह, मोहम्मद अली जिन्ना, इस्माइल और सबर शाह इत्यादि लोग मौजूद रहे

Comments are closed.